छत्तीसगढ़

अधिकारियों को स्थायी निर्देशों का पालन करने के निर्देश

कमिश्नर रायपुर संभाग जी.आर. चुरेन्द्र ने संभाग के सभी कलेक्टरों को पत्र लिखकर प्रशासनिक कसावट बढ़ाने के उददेश्य से जिले से लेकर क्षेत्र स्तर तक के सभी अधिकारियों को उनके विभागों द्वारा समय-समय पर जारी स्थायी निर्देशों का पालन करने के निर्देश दिए हैं

रायपुर: कमिश्नर रायपुर संभाग जी.आर. चुरेन्द्र ने संभाग के सभी कलेक्टरों को पत्र लिखकर प्रशासनिक कसावट बढ़ाने के उददेश्य से जिले से लेकर क्षेत्र स्तर तक के सभी अधिकारियों को उनके विभागों द्वारा समय-समय पर जारी स्थायी निर्देशों का पालन करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि इससे मानव संसाधन और अन्य संसाधनों का शासन एवं जनहित में बेहतर उपयोग हो सकेगा।

कमिश्नर ने कलेक्टरों को अग्रिम दौरा कार्यक्रम एवं मासिक दैनंदिनी बनाने तथा जिले के सभी विभागों के प्रथम से लेकर तृतीय श्रेणी कार्यपालिक अधिकारियों तक डायरी संधारित करवाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने अधिकरियों और कर्मचारियों को नियत मुख्यालय में निवास करने तथा सतत रूप से दौरा कर जनप्रतिनिधियों एवं जनता से मिलकर कार्य व्यवस्था बनाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने जिला, अनुविभाग, तहसील और विकासखंड स्तरीय सभी कार्यालयों में कार्यालय प्रमुख द्वारा हर तीन माह में शाखा लिपिकों का टेबल निरीक्षण करने को कहा है।

कमिश्नर ने राजस्व अधिकारियों को अपने कार्य क्षेत्र में कैम्प कोर्ट के स्थान का निर्धारण कर नियमित रूप से लगाने और लंबित प्रकरणों के त्वरित निराकरण करने को कहा है। उन्होंने कहा है कि पटवारियों द्वारा पी-8 (पटवारी डायरी) का संधारण नहीं करने संबंधी शिकायतें प्राप्त होती हैं। उन्होंने अनिवार्य रूप से सभी पटवारियों से इसे संधारित करवाने के निर्देश दिए हैं, जिससे शासकीय जमीन, खनिज सम्पदा, वन सम्पदा एवं जल सम्पदा की सुरक्षा एवं संरक्षण हो सके। उन्होंने राजस्व सहित सभी विभागों के वार्षिक रोस्टर के अनुसार निरीक्षण और आंतरिक आडिट का सख्ती से अनुपालन करने को भी कहा है।

कमिश्नर ने जिले के अपर कलेक्टर को प्रभारी अधिकारी बनाकर सेवानिवृत्त हो चुके लोक सेवकों के लंबित पेंशन मामलों, दावों और स्वत्वों का समाधान कराने और समय पर पेंशन दिलाने के निर्देश दिए हैं। इसी तरह जिला मुख्यालय में शिविर लगाकर अनुकंपा नियुक्ति के लंबित प्रकरणों में कार्यवाही कर नियमानुसार नियुक्ति देने को कहा है। उन्होंने कर्मचारी कल्याण की भी नियमित रूप से समीक्षा करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने निर्देशों के पालन के संबंध में मासिक प्रतिवेदन भी देने को कहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close