छत्तीसगढ़

आत्महत्या रोकथाम के लिए विकास खंड समन्वय समिति की बैठक में संबंधित विभागों को एसडीएम महासमुंद ने बांटी जिम्मेदारियां

नवजीवन की समीक्षा बैठक में हुई मुद्दे की बात, विकासखंड समन्वय समिति की बैठक में लिए गए अहम फैसले

महासमुंद: अभियान नवजीवन की गुणवत्ता और बढ़ाने के लिए विभिन्न विकास खंडों में समन्वय समितियों की बैठकें आयोजित की रही हैं। इस कड़ी में 19.10.2019 को अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) सुनील चंद्रवंशी की अध्यक्षता में महासमुंद विकासखण्ड समन्वय समिति की बैठक में नवजीवन अभियान के आधार बिंदुओं पर विस्तारपूर्वक चर्चा की गई। चंद्रवंशी ने संबंधित विभागों के प्रमुख अफसरों को उनकी भूमिका और दायित्व बतलाते हुए उनके कार्यक्षेत्र एवं कार्यभार निर्धारित किया गया, जिसमें मूल रूप से राजस्व विभाग को आत्महत्या प्रकरणों के अंकेक्षण, महिला एवं बाल विकास विभाग को सखा-सखी समीक्षा बैठकों की निगरानी करने हेतु निर्देशित किया गया।

जिला कार्यक्रम प्रबंधक एवं नवजीवन के नोडल अधिकारी संदीप ताम्रकार ने बताया कि बैठक में सभी के समन्वय से नवजीवन केंद्रों में उपलब्ध खेल एवं अन्य मनोरंजक सामग्रियों की जानकारी ग्रामीणों तक पहुंचाने और अंकेक्षण रिपोर्ट अंकन में सहयोग करने सहित विद्यालय एवं महाविद्यालयों में नियमित रूप से प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित करते रहने जैसे महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। जिसका मूल्यांकन आगामी समीक्षा बैठक में किया जाएगा।

इस दौरान बैठक में विकासखण्ड चिकित्सा अधिकारी डॉ विपिन कुमार राय, नगर पालिका अधिकारी अन्नपूर्णा पाल, महिला एवं बाल विकास पर्यवेक्षक विमला पांडे एवं जीके नारंग, जागेश्वर सिन्हा सहित स्वास्थ्य विभाग से मनोचिकित्सा सामाजिक कार्यकर्ता रामगोपाल खूंटे एवं शासकीय सामाजिक कार्यकर्ता असीम श्रीवास्तव उपस्थित थे।

25 अक्टूबर को प्रेरकों की परीक्षा

बैठक के दौरान प्रेरकों को रिचार्ज करने के लिए एसडीएम चंद्रवंशी द्वारा विकास खंड चिकित्सा अधिकारी को भी निर्देशित किया गया। जिसके तहत 25 अक्टूबर को क्षेत्र के समस्त शिक्षक अर्थात नवजीवन प्रेरकों की बैठक आहूत कर नवजीवन प्रशिक्षण कार्यशाला का पुनः अभ्यास किया जाना तय किया गया है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close