छत्तीसगढ़बिज़नेस

रायपुर: लॉकडाऊन में किस्तें जमा नहीं करने वालों को सरचार्ज राशि में 31 जुलाई तक छूट

  • रायपुर विकास प्राधिकरण संचालक मंडल की बैठक में निर्णय
  • अधिकारियों-कर्मचारियों ने मुख्यमंत्री सहायता कोष में दिया दो दिन का वेतन

रायपुर: कोरोना महामारी की दूसरी लहर में लॉकडाऊन के कारण रायपुर विकास प्राधिकरण में किस्तों का भुगतान नहीं कर पाने वाले आवंटितियों को अब 31 जुलाई तक सरचार्ज राशि नहीं देना पड़ेगा। प्राधिकरण संचालक मंडल की बैठक में यह निर्णय लिया गया। इसके अनुसार जिन आवंटितियों ने 1 मार्च से 30 जून तक किस्तों की राशि जमा नहीं की है ऐसे सभी आवंटितियो को 31 जुलाई तक राशि भुगतान करने पर 15 प्रतिशत का सरचार्ज में छूट दी जाएगी। प्राधिकरण संचालक मंडल की हुई बैठक की अध्यक्षता प्राधिकरण के अध्यक्ष सुभाष धुप्पड़ ने की और मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. अय्याज तांबोली ने सदस्य सचिव के रुप में प्रस्ताव प्रस्तुत किए।

मुख्यमंत्री सहायता कोष में आरडीए देगा 10 लाख रुपए

कोरोना महामारी के संकट के कारण आम लोगों को राज्य शासन द्वारा दी जाने वाली सहायता के लिए प्राधिकरण के अधिकारियों एवं कर्मचारियों व्दारा अपने वेतन से स्वेच्छा से योगदान देने की इच्छा व्यक्त की थी। फलस्वरुप वेतन से दी जाने वाली राशि सहित प्राधिकरण व्दारा अपनी ओर से मिला कर कुल 10 लाख रुपए की राशि मुख्यमंत्री राहत कोष में दी जाएगी। इस निर्णय को भी संचालक मंडल ने आज अपनी सहमति प्रदान की ।

चिकित्सा देयकों का भुगतान अब प्राधिकरण स्तर पर होगा

संचालक मंडल के सदस्यों ने बैठक में रायपुर विकास प्राधिकरण के अधिकारियों और कर्मचारियों के चिकित्सा देयकों के भुगतान के संबंध में राज्य शासन के निर्देशों व नियमों के अनुसार निर्णय लिया। इसके अंतर्गत 5 लाख तक के देयकों का भुगतान मुख्य कार्यपालन अधिकारी के स्तर पर तथा 5 लाख से ज्यादा के अधिक राशि का भुगतान संचालक मंडल के अनुमोदन के पश्चात किया जाएगा। साथ ही पूर्व में कर्मचारियों के लंबित 31.31 लाख रुपए के देयकों का भुगतान भी इसी प्रावधान के अनुसार किया जाएगा।

कर्मचारियों के लिए दुर्घटना बीमा, ओव्हरड्रॉफ्ट की सुविधा का सैलरी सेविंग एकाऊंट खोला

प्राधिकरण व्दारा अपने कर्मचारियों की सुविधा के लिए पंजाब नैशनल बैंक में ऐसा सैलेरी सेविंग एकॉऊंट खुलवाया है, जिसमें 20 लाख रुपए का दुर्घटना बीमा, दो माह के वेतन का ओव्हर ड्रॉफ्ट और जीरो बैंलेस की सुविधा बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के मिलेगी। इस सेविंग एकाऊंट में कर्मचारियों की स्थाई अपंगता अथवा निधन होने पर 20 लाख रुपए दुर्घटना बीमा की दिया जाएगा। साथ ही दो माह के वेतन के बराबर अथवा 3 लाख रुपए जो भी कम हो का ओव्हरड्रॉफ्ट तथा जीरो बैंलेस की सुविधा भी बैंक देगा। अधिकारियों और कर्मचारियों को प्राधिकरण अगले माह से इसी बैंक खाते के माध्यम से वेतन का भुगतान करेगा।

प्राधिकरण संचालक मंडल की बैठक में आज अध्यक्ष सुभाष धुप्पड़, मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. अय्याज तांबोली, अवर सचिव वित्त विभाग सतीश पाण्डेय, उप सचिव आवास एवं पर्यावरण विभाग सी. तिर्की, अपर संचालक नगर तथा ग्राम निवेश विभाग छत्तीसगढ़ संदीप बागड़े, जिला वन संरक्षक रायपुर वृत्त रमण सोमावार, एडीशनल कलेक्टर बी.सी. साहू, अपर आयुक्त नगर पालिक निगम लोकेश साहू, अधीक्षण अभियंता छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी मनोज वर्मा, लोक निर्माण विभाग से सहायक अभियंता सुश्री सीमा दीवान सहित प्राधिकरण के अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी नवीन कुमार ठाकुर उपस्थित थे।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close