छत्तीसगढ़

मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन ने मेडिकल कॉलेज के सेवानिवृत्त वरिष्ठ चिकित्सकों को दी विदाई

रायपुर: पं. जवाहर लाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय के वरिष्ठ सेवानिवृत चिकित्सा शिक्षकों का विदाई समारोह आज महाविद्यालय कैम्पस में स्थित अटल बिहारी वाजपेयी नवीन सभागृह में आयोजित किया गया। संस्था के परंपरानुसार महाविद्यालय के मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन ने इस समारोह का आयोजन किया। इसमें 31 जुलाई को सेवानिवृत्त हुए पूर्व संचालक चिकित्सा शिक्षा डॉ. आर. के. सिंह के अलावा विगत वर्ष में सेवा निवृत हुये पूर्व डी. एम. ई. डॉ. एस. एल. आदिले, पूर्व अधिष्ठाता डॉ. आभा सिंह, पूर्व प्राध्यापक डॉ. अजीत व्ही. डहरवाल, डॉ. व्ही. एन. मिश्रा, डॉ. नलिनी मिश्रा और डॉ. एस. के. आजाद को भावभीनी विदाई दी गई।

विदाई समारोह की शुरुआत विद्या की अधिष्ठात्री देवी मां सरस्वती की वंदना के साथ हुई। तत्पश्चात् सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. अरविंद नेरल ने कहा कि मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन की ओर से मैं आप सभी का स्वागत करता हूं। हृदय से मेडिकल कॉलेज के उन सभी सीनियर रिटायर्ड टीचर्स के प्रति आभार प्रकट करता हूं जिन्होंने अपने बहुमूल्य ज्ञान को सभी छात्रों में बांटा। आप सबने अपने-अपने कार्यों से जितने अप्रतिम और अनुपम दस्तावेज लिखे हैं, वे सभी हमारी स्मृति में चिरस्थायी एवं चिरस्मरणीय रहेंगे। हम आपको कभी नहीं भूल पायेंगे। आप सबकी यादें गोधूलि वेला में लौटती गायों की घंटी की तरह हमेशा सुमधुर होकर सुनाई देती रहेंगी। आप सभी की याद ही हमारी वास्तविक जायदाद है।

संचालक चिकित्सा शिक्षा (अतिरिक्त प्रभार) एवं डीन डॉ. विष्णु दत्त ने सभी रिटायर्ड शिक्षकों के जीवन से जुड़ी यादों को साझा करते हुए कहा कि डॉ. आभा सिंह इंदौर मेडिकल कॉलेज में मुझसे तीन-चार साल सीनियर रहीं। वहां से ही उनसे बारे में जाना कि वे मेडिसिन विभागाध्यक्ष की बेटी हैं। बाद में मेडिकल कॉलेज रायपुर में भी उनके साथ काम करने का अवसर मिला। आदिले सर मेरे शिक्षक रहे और पढ़ाया। इंदौर मेडिकल कॉलेज के मेस में मेरा उनसे परिचय हुआ था। इंदौर में 12-13 साल रहे। डॉ. अजीत व्ही. डहरवाल की गिनती अच्छे टीचर के रूप में रही। ईएनटी में पीजी शुरू करने में उनका बहुत योगदान रहा। आप सभी अपने आप में अच्छे शिक्षक रहे जिनसे हर छात्र ने कुछ न कुछ सीखा है। इस विदाई समारोह के माध्यम से आप सभी के स्वस्थ एवं दीर्घायु जीवन की कामना करता हूं।

टीचर्स एसोसिएशन की सचिव डॉ. जया लालवानी ने हाल ही में सेवानिवृत हुए डी. एम. ई. डॉ. आर. के सिंह के बारे परिचय देते हुए कहा कि उन्होंने रायपुर मेडिकल कॉलेज में फोरेंसिक विभाग को नये आयाम दिये। उनकी टीचिंग से गृह विभाग और पुलिस विभाग के अधिकारी भी लाभान्चित हुए। उनके नाम कई उपब्धियां दर्ज हैं। वे पूर्व में छत्तीसगढ़ सरकार के मेडिको लीगल एडवाइजर रहे हैं। फोरेंसिक विभागाध्यक्ष डॉ. स्निग्धा जैन ने डॉ. आर. के. सिंह के व्यक्तित्व के बारे में बताते हुए कहा कि वे समय के पाबंद रहे। अपने कार्य के प्रति सजग और समर्पित रहे। इतने ऊंचे पद पर रहते हुए भी सदैव मृदुभाषी रहे। डॉ. आर. के. सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि सभी का सहयोग और प्यार मिलता रहा। विदाई के ये दिन सबके जीवन में आते हैं। ये कोई रुकावट नहीं है, नया आयाम है। उसी रास्ते में आगे चलते जाना है।

पूर्व रिटायर्ड डीन डॉ. आभा सिंह ने कहा कि इस यात्रा का समापन एक नई यात्रा की शुरुआत करता है। रायपुर मेडिकल कॉलेज में मेरी यात्रा की शुरुआत 20 साल पहले इंदौर मेडिकल कॉलेज से ट्रांसफर के बाद शुरू हुई थी। मेडिकल कॉलेज के स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग में मैंने अपनी सेवाएं दीं। बतौर डीन मैंने पाया कि ऑफिस में लोगों का रवैया काफी सहयोगात्मक है। सभी लोगों का सहयोग मिलता रहा। इन कई सालों के सफर में मेरे परिवार वालों का बहुत सहयोग रहा। इसी तरह रिटायरमेंट के बाद के अपने अनुभव डॉ. अजीत व्ही. डहरवाल ने भी साझा किये। उन्होंने कहा कि यह मेरे जीवन के तीसरी पारी की शुरुआत है। यह मेरा सौभाग्य है कि मेरा जन्म डी.के. अस्पताल में हुआ मेरी पढ़ाई मेडिकल कॉलेज रायपुर में हुर्इ और मैं सेवानिवृत्त भी यहीं से हुआ।

सभी वरिष्ठ सेवानिवृत चिकित्सा शिक्षकों की सम्पूर्ण जीवन यात्रा के ऊपर दो-दो मिनट की डॉक्यूमेंट्री प्रोजेक्टर के माध्यम से प्रस्तुत किया गया जिसे एसोसिएशन के एक्जीक्यूटिव मेंबर डॉ. संतोष सिंह पटेल ने तैयार किया था। इस अवसर पर अधिष्ठाता डॉ. विष्णु दत्त को संचालक चिकित्सा शिक्षा का अतिरिक्त प्रभार दिये जाने पर खुशी जाहिर करते हुए उनका स्वागत किया गया। समारोह के मुख्य अतिथि पं. दीनदयाल उपाध्याय स्मृति आयुष एवं स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. ए. के. चंद्राकर थे।

इस कार्यक्रम का संयोजन टीचर्स एसोसिएशन की उपाध्यक्ष डॉ. देवप्रिया लकरा एवं डॉ. निर्मल वर्मा ने किया। सभी अतिथियों के प्रति आभार प्रकट किया टीचर्स एसोसिएशन के सचिव डॉ. ओंकार खंडवाल ने, वहीं कार्यक्रम का संचालन डॉ. जया लालवानी ने किया। डॉ. निधि पांडे, डॉ. स्निग्धा जैन, डॉ. हंसा बंजारा एवं डॉ. ज्योति जायसवाल ने अपने-अपने विभागों के सेवानिवृत्त शिक्षकों की जीवनी का संक्षिप्त परिचय दिया।

इस अवसर पर महासमुंद मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. पी. के. निगम, अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. रमनेश मूर्ति, कांकेर मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. एम. एल. गर्ग, राजनांदगांव मेडिकल कॉलेज की डीन डॉ. रेणुका गहिने, अम्बेडकर अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विनित जैन, राजनांदगांव के मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक डॉ. संदीप चंद्राकर, डॉ. प्रतिभा जैन शाह, डॉ. शारजा फुलझेले, डॉ. पी. के. खोडियार, डॉ. सुमित त्रिपाठी, डॉ. स्मित श्रीवास्तव, डॉ. के. के. साहू, डॉ. प्रदीप चंद्राकर, डॉ. दिवाकर धुरंधर, डॉ. देवप्रिया रथ एवं अन्य सभी विभाग के डॉक्टर उपस्थित रहे।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close