छत्तीसगढ़

रायपुर: सीएए और एनपीआर के मुद्दे पर मुस्लिमों को भ्रमित न करे कांग्रेस: डॉ. सलीम राज

रायपुर: भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सलीम राज ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी के मुद्दे पर मुस्लिमों को भ्रमित करने का आरोप कांग्रेस समेत विपक्षी दलों पर लगाया है। डॉ. राज ने कहा कि मुस्लिम समाज को विपक्ष की संविधान विरोधी सियासत का मोहरा बनने से बचने की जरूरत है।

भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. राज ने कहा कि सीएए और एनआरसी का विरोध करके कांग्रेस समेत पूरा विपक्ष मुस्लिमों को भ्रमित कर रहा है। मुस्लिम समाज के प्रबुध्द लोगों से सीएए को पूरा पढ़ने की सलाह देते हुए डॉ. राज ने कहा कि सीएए का नासमझी में विरोध न्यायसंगत नहीं है क्योंकि यह कानून किसी की नागरिकता छीनने वाला कानून नहीं है, अपितु पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के प्रताड़ित उन हिन्दुओं को भारत की नागरिकता देने वाला कानून है जो शरणार्थी के रूप में यहां वर्षों से यातनापूर्ण और बिना नागरिक-सम्मान के जीवन जीने को विवश थे। उन्होंने कहा कि मुस्लिम धर्मगुरुओं को भी इस कानून का बारीकी से अध्ययन करना चाहिए ताकि वे अनुभव कर सकें कि सीएए शरणार्थियों को इंसानी जिंदगी देने वाला इंसानियत का कानून है। डॉ. राज ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह बार-बार सीएए को लेकर सब कुछ साफ-साफ देश को बता चुके हैं, बावजूद इसके विपक्ष इस मुद्दे पर भ्रम फैलाने की कोशिशों से बाज नहीं आ रहा है।

//यह भी पढ़ें: डॉ. भीमराव अम्बेडकर स्मृति चिकित्सालय: नेशनल कॉन्फ्रेंस में पीडियाट्रिक विभाग को मिले 6 पुरस्कार//

भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. राज ने यह भी कहा कि भारतीय मुस्लिम समाज को घुसपैठियों का समर्थन कतई नहीं करना चाहिए। इन घुसपैठियों की वजह से एक तो भारतीय मुसलमानों की प्रगति और कल्याण के मौके छिन रहे हैं, दूसरे इन घुसपैठियों की आतंकवादी गतिविधियों और उन्माद फैलाने में संलिप्तता के कारण भारतीय मुस्लिम समाज बदनाम हो रहा है। डॉ. राज ने कहा कि रोहिग्यां हो या अन्य घुसपैठिए दोनों ही भारत और भारतीय मुस्लिमों के लिए परेशानी का सबब हैं, अतः घुसपैठियों का देश से निकाले जाने पर किसी भी भारतीय मुस्लिम को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close