छत्तीसगढ़

बाहर से लौटने वालों पर नजर रखने हर गांव में कराई जाएगी मुनादी, मितानिनें करेंगी सावधान

स्टेट कमांड एंड कंट्रोल सेंटर द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण के नियंत्रण एवं रोकथाम व्यवस्था की समीक्षा, स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह सतर्क

रायपुर

छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस संक्रमण के नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की सचिव श्रीमती निहारिका बारिक सिंह की अध्यक्षता में आज हुई स्टेट कमांड एंड कंट्रोल सेंटर की बैठक में एयरपोर्ट पर यात्रियों की स्क्रीनिंग, अस्पतालों में जांच व उपचार तथा क्वारेंटाइन सेंटर्स में तमाम व्यवस्थाओं की समीक्षा की गई। बैठक में कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने भारत सरकार और राज्य शासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों और एडवाइजरी का प्रभावी पालन सुनिश्चित करने के संबंध में अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए गए।

उल्लेखनीय है कि राज्य स्तर पर गठित कमांड एंड कंट्रोल सेंटर द्वारा प्रतिदिन सभी व्यवस्थाओं की समीक्षा की जा रही है। बैठक में केन्द्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की संयुक्त सचिव श्रीमती ऋचा शर्मा भी मौजूद थीं।

बैठक में बताया गया कि क्वारेंटाइन सेंटर्स में चिकित्सा सुविधा, लॉजिस्टिक्स और सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं। व्यवस्थाओं के सुचारू संचालन के लिए यहां कार्यपालिक दंडाधिकारी, स्वास्थ्य अधिकारी एवं पुलिस बल की तैनाती की गई है। सभी क्वारेंटाइन सेंटर्स मंय बायो-वेस्ट्स (Bio-wastes) के समुचित निपटारे की व्यवस्था सुनिश्चित करने कहा गया। बैठक में सभी जिलों के नोडल अधिकारियों को हाल ही में विदेश प्रवास से लौटे लोगों की जांच कराकर आवश्यकतानुसार होम आइसोलेशन या क्वारेंटाइन सेंटर में रखने के निर्देश दिए गए। बाहर से लौटने वालों पर नजर रखने और इस बारे में लोगों को जागरूक करने कोटवारों के माध्यम से सभी गांवों में मुनादी करवाई जाएगी। बाहर से लौटने वालों को मितानिनों के जरिए जरूरी सतर्कता एवं सावधानियों के बारे में बताया जाएगा।

स्वास्थ्य सचिव ने बैठक में भारत सरकार द्वारा निर्धारित दरों पर मास्क और हैंड-सैनिटाइजर की उपलब्धता सुनिश्चित कराने नियंत्रक, खाद्य एवं औषधि प्रसाधन को निर्देशित किया। सभी अस्पतालों में भी पर्याप्त संख्या में इसकी आपूर्ति सुनिश्चित करने कहा। बैठक में अस्पतालों एवं क्वारेंटाइन सेंटर्स में संदिग्धों की देखभाल और इलाज में लगे डॉक्टरों व अन्य मेडिकल स्टॉफ के लिए पृथक आवासीय व्यवस्था तथा लॉजिस्टिक्स के संबंध में भी निर्देश दिए गए।

समीक्षा बैठक में संचालक स्वास्थ्य सेवाएं नीरज बंसोड़, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला, संचालक चिकित्सा शिक्षा डॉ. एस.एस. आदिले, नियंत्रक खाद्य एवं औषधि प्रसाधन एस.एन. राठौर, रायपुर के कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन, नगर निगम के आयुक्त सौरभ कुमार, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मीरा बघेल, सिविल सर्जन डॉ. रवि तिवारी, डॉ. भीमराव अंबेडकर स्मृति चिकित्सालय के अधीक्षक डॉ. विनीत जैन और डॉ. आर.के. पंडा भी मौजूद थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close