विदेश

अमेरिका राष्ट्रपति चुनाव: अधिकांश भारतीयों का समर्थन बिडेन को, लेकिन ट्रंप ने बनाई है बढ़त

नई दिल्ली: राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन को आगामी चुनाव के लिए भारतीय-अमेरिकी मतदाताओं के दो-तिहाई समर्थन मिल रहा है। मंगलवार को जारी एक नए सर्वेक्षण में यह बात सामने आई है। इस मामले में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप उनसे पीछे चल रहे हैं। लेकिन उनके लिए राहत की बात यह है कि 2016 के चुनाव की तुलना में उन्हें 16 प्रतिशत भारतीय-अमेरिकी मतदाताओं का समर्थन मिलता दिख रहा है।

मंगलवार को जारी किए गए Indiaspora-AAPI डेटा सर्वेक्षण ने भारतीय-अमेरिकी समुदाय के 18 लाख पंजीकृत मतदाताओं के बढ़ते दबदबे की पुष्टि की है। उनमें से 56% डेमोक्रेट्स द्वारा संपर्क किए गए और 48% रिपब्लिकन द्वारा संपर्क किए गए हैं। आपको बता दें कि 2016 में सिर्फ 31 प्रतिशत इन मतदाताओं से किसी भी पार्टी द्वारा संपर्क साधा गया था।

सबसे अधिक कमाई वाले भारतीय-अमेरिकियों ने राजनीतिक दलों को काफी चंदे भी दिए हैँ। एक चौथाई लोगों का कहना है कि उन्होंने इस साल उम्मीदवार, राजनीतिक पार्टी या किसी अन्य अभियान को 30 लाख डॉलर दान दिया है।

सर्वेक्षण के अन्य निष्कर्षों में पता चला है कि अधिकांश भारतीय अमेरिकियों (54 प्रतिशत) ने खुद को डेमोक्रेट का समर्थक बताया है।  वहीं, 24 प्रतिशत ने खुद को निष्पक्ष बताया, लेकिन 16 प्रतिशत ने खुद को रिपब्लिकन बताया है। 2016 में यह प्रतिशत क्रमशः 45, 35 और 19 था।

बिडेन को मिल रहे 66 प्रतिशत भारतीय अमेरिकियों का समर्थन 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में हिलेरी क्लिंटन को मिले  77 प्रतिशत भारतीय अमेरिकी के समर्थन वाली की तुलना में कम था। आपको बता दें कि 2012 के चुनाव में राष्ट्रपति बराक ओबामा को 84 भारतीय-अमेरिकी का समर्थन प्राप्त था।

दूसरी तरफ, 2016 की तुलना में ट्रंप को इस साल 28 प्रतिशत भारतीय-अमेरिकी का समर्थन मिलता दिख रहा है। आपको बता दें कि पिछले चुनाव में सिर्फ 12% भारतीय-अमेरिकी का समर्थन उन्हें प्राप्त हुआ था।

कांग्रेसी राजा कृष्णमूर्ति ने कहा, ‘डेमोक्रेट्स के लिए यह चिंता करने वाली बात है। बिडेन अभियान को विशेष रूप से चौकस होने की आवश्यक्ता है। भारतीय-अमेरिकी समुदाय के लिए एक मजबूत आउटरीच का संचालन करना चाहिए।’ हालांकि उन्होंने उम्मीद जताई कि ये मतदाता डेमोक्रेटिक पार्टी के समर्थन में सामने आएंगे। क्योंकि कोरोना को लेकर वह ज्यादा चिंतित हैं।

ओहियो राज्य विधायिका के एक रिपब्लिकन सदस्य नीरज अंटानी ने भारतीय अमेरिकियों के बीच ट्रंप के समर्थन बढ़ने के लिए फरवरी में उनकी भारत यात्रा और प्रधानमंत्री के साथ उनकी दोस्ती को कारण बताया। आपको बता दें कि सीएए (नागरिकता संसोधन अधिनियम), कश्मीर से अनुच्छेद 370 की समाप्ति और अन्य मुद्दों पर बिडेन ने इसका विरोध किया था।

पूर्व उपराष्ट्रपति न भारतीय अमेरिकी समुदाय को आश्वासन दिया है कि भारत के साथ संबंध उनके प्रशासन के लिए एक “उच्च प्राथमिकता” होगा, जो चीन और पाकिस्तान की हरकतों को भी रोकेगा।

भारतीय-अमेरिकी समुदाय के लिए अपने कैंपेन के लिए ट्रंप की टीम ने हाऊडी मोदी और नमस्ते ट्रम्प के कार्यक्रमों का एक वीडियो जारी किया है, जिसमें राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भाग लिया थी।

सर्वेक्षण के निष्कर्षों के अनुसार, दोनों पक्षों द्वारा भारतीय-अमेरिकी समुदाय को आक्रामक तरीके से लुभाया जा रहा है। 2016 में डेमोक्रेट्स द्वारा 56% और रिपब्लिकन द्वारा 58% लोगों से संपर्क साधा गया।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close